Breaking News
दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2019 : अध्यक्ष समेत तीन सीटों पर ABVP की जबरदस्त जीत, NSUI को मिला सचिव पद !  |  रांची पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, झारखंड को दी 7 नई सौगातें !   |  देहदान अंगदान समाज की एक बड़ी जरूरत - हर्ष मल्होत्रा  |  वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जताया शोक, सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा- `अलविदा दोस्त`   |  LIVE : आज रात चूमेगा चांद की जमीन को चंद्रयान -2 देखे लाइव लैंडिंग  |  Assam NRC : गृह मंत्रालय ने अंतिम सूची की जारी, 19 लाख लोग साबित नहीं कर सके नागरिकता, अब सामने है ये विकल्प !   |  दिलशाद गार्डन जी टी बी एनक्लेव के अल्ट्रासाउंड सेंटर पर छापा मारकर भ्रूण लिंग जांच पकड़ी  |  पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से थे बीमार,एम्स में ली आखिरी सांस !  |  पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से 67 वर्ष की उम्र में निधन, दिल्ली के एम्स अस्पताल में ली अंतिम सांस !   |  जम्मू कश्मीर से हटा अनुच्छेद 370 ,लद्दाख होगा केंद्र शासित प्रदेश, जानें क्या है अनुच्छेद 35A तथा अनुच्छेद 370 !  |  
अपराध
By   V.K Sharma 26/11/2018 :14:40
रायबरेली जेल में कैदियों की पूरी रंगबाजी, हथियारों के साथ कैदियों की दारु पार्टी, जेल से फोन करके मांगी जा रही है रिश्वत , पुलिस प्रशासन की लापरवाही पर उठे सवाल !
Total views  476




रायबरेली, उत्तर प्रदेश (न्यूज़ ग्राउंड) आकाश मिश्रा :  उत्तर प्रदेश की रायबरेली जिला जेल में कैदियों द्वारा कथित रूप से शराब मंगवाने, जेलर को रिश्वत देने की बात कहने और किसी को धमकी देने का वीडियो वायरल होने के बाद वरिष्ठ कारागार अधीक्षक समेत छह अधिकारियों को सोमवार को निलम्बित करने के साथ-साथ उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गयी. गृह विभाग के सूत्रों ने बताया कि रायबरेली जिला जेल के अंदर कैदियों द्वारा किसी को फोन करके शराब मंगवाने, किसी को धमकी देने और जेलर को रिश्वत देने की बात करने का वीडियो वायरल जिसमे कैदी दारु पार्टी करते नज़र आ रहे है और सिगरेट के धुएं को उड़ाते हुए रंगबाजी करे रहे और और बाहर फ़ोन करके पैसो की मांग कर रहे है और जेल में बैठे बैठे अपना ग्रौंप चला रहे हुई ये मामले सामने आते ही जिला कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ल, कारापाल गोविन्द राम वर्मा, उप कारापाल रामचन्द्र तिवारी, मुख्य जेल वार्डन लालता प्रसाद उपाध्याय, जेल वार्डन गंगाराम और शिवमंगल सिंह को निलम्बित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गयी है. वहीं जेल में अपराधियों के शराब पार्टी किए जाने का वीडियो वायरल होने के बाद रविवार देर शाम डीएम संजय कुमार खत्री और एसपी सुजाता सिंह ने जेल में छापा मारा. अचानक छापेमारी से जेल अफसरों में हड़कंप मच गया था. तलाशी के दौरान चार मोबाइल फोन सेट और एक सिमकार्ड बरामद किये जाने का मामला भी उसी मुकदमे में शामिल कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि शासन के निर्देश पर कल रविवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा एक बार फिर जेल में तलाशी लिये जाने पर सिगरेट, लाइटर, माचिस, मिठाइयां तथा मेवे आदि खाद्य पदार्थ बरामद हुए थे.  बता दें कि वायरल वीडियो रायबरेली जिला जेल के बैरक नंबर 10 का बताया जा रहा है. जो 21 नवंबर से पहले का बताया जा रहा है. इसमें बंद अपराधी जेल में शराब पीते हुए सिगरेट का धुआं उड़ाते है और रंगबाजी दिखाते हुए बहार लोगो को धमकाते है और पैसे की मांग करे है ये अपराधी सरकारी मशीनरी को आइना दिखा रहे हैं. यही नहीं इस वीडियो में जेल में बंद अपराधी फोन पर अपने साथी को 10 हजार रुपये में से 5 हजार रुपये एक जेल के अधिकारी को देने की बात कह रहे हैं. बताया जा रहा है कि प्रशासन ने गुपचुप तरीके से इन बंदियों का तीन दिन पहले ही गैर जिलों की जेलों में तबादला कर दिया. इस मामले में जेल अधीक्षक प्रमोद शुक्ला ने बताया कि वीडियो वायरल में पांच अपराधी दिख रहे हैं. इसमें से चार अपराधियों के खिलाफ सदर कोतवाली में एफआईआर दर्ज है. जेल में चखना और शराब पार्टी का वीडियो वायरल होने की जानकारी पर बंदी निखिल सोनकर को सुल्तानपुर, अजीत को बाराबंकी, दलसिंगार सिंह को फतेहपुर और अंशू का प्रतापगढ़ जिला कारागार स्थानांतरण कर दिया गया है. साथ ही प्रकरण की पहले ही एफआईआर सदर कोतवाली में लिखाई जा चुकी है. कुछ लोगों ने जेल का माहौल खराब करने के लिए वीडियो बनवाया है. जांच कराई जा रही है. मीडिया से बातचीत में डीआईजी जेल उमेश श्रीवास्तव ने कहा कि रायबरेली जेल में शराब पार्टी का वीडियो वायरल होने के मामले में जेल अधीक्षक, जेलर समेत छह कर्मियों पर कार्रवाई कर दी गई है। जेल प्रशासन की चूक से यह सब हुआ है। ऐसा जेल में नहीं होना चाहिए था।  उन्होंने कहा कि इस प्रकरण में जो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा। इसी बीच देर शाम को डीआईजी ने लखनऊ पहुंचकर एडीजी जेल को अपनी रिपोर्ट सौंपी दी, जिसे शासन को भेजा जाएगा।  डीआईजी जेल से सवाल किया गया कि जेल के अंदर शराब समेत अन्य सामग्री पहुंच गई। कैंटीन प्रभारी के माध्यम से ही बंदियों को सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। इसके बावजूद कैंटीन प्रभारी पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई। इस पर डीआईजी ने कहा कि जांच चल रही है। जांच में कैंटीन प्रभारी दोषी मिले तो उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। डीआईजी से सवाल किया गया कि बैरक में जमीन खोदकर मोबाइल छिपा दिए गए। फावड़ा और नुकीले औजार कैसे जेल के अंदर पहुंचे। इस पर डीआईजी ने कहा कि इसकी भी जांच कराई जा रही है कि फावड़ा और नुकीले औजार जेल के अंदर से कैसे पहुंचे और इसके लिए कौन जिम्मेदार था। डीआईजी से सवाल किया गया कि जो वीडियो वायरल हुआ है, उसमें बैरक में बंद पांच अपराधियों को दिखाया गया है। इसके बाद भी चार अपराधियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। एक अपराधी पर रिपोर्ट क्यों नहीं दर्ज कराई गई। इस पर डीआईजी ने कहा कि जांच अभी चल रही है। जो भी मामले में दोषी होगा, उस पर कार्रवाई होगी।

रायबरेली जेल में कैदियों की पूरी रंगबाजी, हथियारों के साथ कैदियों की दारु पार्टी, जेल से फोन करके मांगी जा रही है रिश्वत , पुलिस प्रशासन की लापरवाही पर उठे सवाल !





V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv